GMCH STORIES

मनन शर्मा ने ISRO के युविका 2024 कार्यक्रम में भाग लिया:

( Read 2889 Times)

26 May 24
Share |
Print This Page
मनन शर्मा ने ISRO के युविका 2024 कार्यक्रम में भाग लिया:

उदयपुर, उदयपुर निवासी कक्षा 10वीं के छात्र मनन शर्मा ने अहमदाबाद के सैटेलाइट एप्लीकेशन सेंटर में आयोजित ISRO के युविका 2024 कार्यक्रम में भाग लिया। यह कार्यक्रम 13 मई से 24 मई 2024 तक चला और इसमें देश के विभिन्न हिस्सों से  आए 50  छात्र-छात्राओं ने भाग लिया। इसका उद्देश्य प्रतिभाशाली युवा  छात्रों को अंतरिक्ष विज्ञान और प्रौद्योगिकी में गहन प्रशिक्षण प्रदान करना था।

युविका, जिसका पूरा नाम 'युवा वैज्ञानिक कार्यक्रम' है, के लिए चयन एक अखिल भारतीय प्रतियोगिता के माध्यम से किया गया। यह कार्यक्रम युवा मन में अंतरिक्ष विज्ञान की गहरी समझ और सराहना को प्रेरित करने के लिए डिजाइन किया गया है। इस साल का कार्यक्रम विशेष रूप से उल्लेखनीय था, जिसमें मनन शर्मा को अपने वैज्ञानिक कौशल और ज्ञान को प्रदर्शित करने का अवसर मिला।

 

कार्यक्रम की शुरुआत प्रमुख वैज्ञानिकों द्वारा एक परिचयात्मक सत्र से हुई। पूरे कार्यक्रम के दौरान, प्रतिभागियों ने विभिन्न व्याख्यान और कार्यशालाओं में भाग लिया, जिनमें अंतरिक्ष विज्ञान, अंतरिक्ष मिशन और उपग्रह प्रौद्योगिकी जैसे विषय शामिल थे। एक सत्र में, प्रतिभागियों को ISRO के प्रक्षेपण यानों के बारे में जानकारी दी गई, जिससे उन्हें इन महत्वपूर्ण घटकों के बारे में बुनियादी ज्ञान प्राप्त हुआ। स्पेसक्राफ्ट फैब्रिकेशन पर एक कार्यशाला में, प्रतिभागियों ने अंतरिक्ष यानों के निर्माण और परीक्षण के बारे में सीखा, जिससे उन्हें अंतरिक्ष यानों के पीछे की इंजीनियरिंग की गहरी समझ मिली। इन प्रतिभागियों को रॉकेट प्रणालियों के डिजाइन और संचालन के बारे में गहन जानकारी दी गई, जो अंतरिक्ष यानों के लॉन्च और नेविगेशन को समझने के लिए आवश्यक है।

सभी प्रतिभागियों के लिए मुख्य आकर्षण प्लाज्मा अनुसंधान संस्थान का दौरा था जहां किए जा रहे अत्याधुनिक अनुसंधान से प्रतिभागी मंत्रमुग्ध हो गए,  जिससे प्लाज्मा भौतिकी और अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी में किए जा रहे अनुप्रयोगों के बारे में उनकी समझ को व्यापक बनाया। इसके अतिरिक्त, मनन को एक छोटा रॉकेट लॉन्च करने और एक रोवर बनाने का भी अवसर मिला, जिससे उन्हें एयरोस्पेस इंजीनियरिंग और रोबोटिक्स में व्यावहारिक अनुभव प्राप्त हुआ। 

कार्यक्रम में विभिन्न ISRO साइटों जैसे सैटेलाइट फेयरिंग, प्लाज्मा अनुसंधान संस्थान, भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला और उपग्रह सुविधाओं के लिए अनोखे तकनीकी दौरों को शामिल किया गया। इन दौरों ने प्रतिभागियों को वर्तमान में चल रहे अनुसंधान और विकास परियोजनाओं को प्रत्यक्ष रूप से देखने का अवसर प्रदान किया, जिससे उनका सीखने का अनुभव समृद्ध हुआ।

 

 

वैज्ञानिक प्रशिक्षण के अलावा, कार्यक्रम में सांस्कृतिक गतिविधियाँ भी शामिल थीं, जिससे अनुभव संतुलित और समग्र बना। एक वाल प्रोजेक्शन शो ने विज्ञान और कला के बीच तालमेल को दर्शाया, जिससे यह स्पष्ट हुआ कि ये क्षेत्र एक-दूसरे के पूरक हो सकते हैं।

 

 

कार्यक्रम की मुख्य आकर्षणों में से एक गगनयान अंतरिक्ष यात्रियों के साथ बातचीत थी, जो युविका 2024 प्रतिभागियों के साथ उनकी पहली सार्वजनिक बातचीत थी। इस सत्र के दौरान,  इन  अंतरिक्ष यात्रियों ने  प्रेरणादायक कहानियाँ और अनुभव साझा किए, जिससे प्रतिभागियों को अंतरिक्ष अन्वेषण पर एक अनोखा दृष्टिकोण मिला। प्रतिभागियों को ISRO के अध्यक्ष एस. सोमनाथ से भी मिलने का दुर्लभ अवसर मिला। मनन ने बताया  कि यह सत्र विशेष रूप से प्रेरणादायक और ज्ञानवर्धक रहा। अध्यक्ष सोमनाथ ने अंतरिक्ष अनुसंधान और भविष्य की योजनाओं पर भी चर्चा की, जिससे युवा वैज्ञानिकों को महत्वपूर्ण मार्गदर्शन और अंतर्दृष्टि मिली।

 

 

कार्यक्रम का समापन एक समापन समारोह के साथ हुआ, जिसमें प्रतिभागियों को उनके उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए प्रमाण पत्र और पुरस्कार दिए गए। अपने अनुभव बताते हुए हुए, मनन ने कहा, “यह कार्यक्रम मेरे जीवन का एक महत्वपूर्ण मील का पत्थर रहा है। मैंने यहां बहुत कुछ सीखा और अपने भविष्य के लिए कई प्रेरणाएँ प्राप्त कीं।”

 

 

ISRO का युविका कार्यक्रम वास्तव में हमारे युवा वैज्ञानिकों के लिए एक अद्वितीय मंच है, जो उन्हें विज्ञान और प्रौद्योगिकी के क्षेत्रों में नए मील के पत्थर हासिल करने के लिए प्रेरित करता है।


Source :
This Article/News is also avaliable in following categories : Headlines , Education News
Your Comments ! Share Your Openion

You May Like